एक रात की ख्वाहिश……..!!!!

एक रात की ख्वाहिश

……..

एक रात की ख्वाहिश,,,,

रात गहरी-काली हो
खुला आसमान और एक आराम कुर्सी,,,,
सामने एक मेज
जिस पर हो एक ब्रांडेड शराब की बोतल
कुछ तीखी नमकीन,
एक बर्तन में कुछ बर्फ के टुकड़े
एक लाईटर-एक महंगी सिगरेट की खुली पैक
मेरे हाथ में एक काँच की गिलास
जो आधा भरी हो शराब से
और दुसरे हाथ में आधी
जली हुई सिगरेट
जिसकी धुंध आसमान की ओर
मेरे होठों से उड़ती हो,
मेरे पैर मेरे सामने वाले मेज पर
क्रॉस कर रखें हों,
कोई ना हो रोकने-टोकने-देखने-सुनने वाला
और ना ही मेरे शराब-सिगरेट में
कोई हिस्सेदारी रखने वाला,
कहीं दूर जलती रहे कोई मशाल
बस उसी की रोशनी रहे
ये चाँद-तारों की नहीं…!!!!

Ishq Or Ibadat : Book Review

Ishq Or Ibadat

Rumi is one of the world’s most famous poets, and his poetry is truly treasured across continents and cultures.

This translation is good for those who find it difficult to read hindi. One may read Rumi’s poems as one’s yearning to return to the divine or simply interpret it as the heart’s yearning for one’s true love. It’s moving, simple, spiritual but not dogmatic.

I enjoy reading different interpretations of Rumi’s work. A good translation of his work helps readers to connect better to his original work.

Thoroughly enjoyed reading the book, recommended!

To read this book click here

To buy this book click here

ये जो हुआ,,,उसे होना ही था एक दिन……..

ये जो हुआ
उसे होना ही था एक दिन
जब बीज उसने बोये थे
तुम्हारे भीतर प्रेम के और तुमने
सींचा था उन्हे अपने सम्पूर्ण समर्पण से
तभी सुनिश्चित हो चुका था इस घटना का होना

हरकते दिखला रहीं थी उसकी
एक छोटे से अन्तराल के पश्चात
परिवर्तन होगा उसका ह्रदय गर्भ
जन्मेगा एक नया प्रेम उसके भीतर
जो कैद हो तुम अभी उसके
मन- मस्तिष्क-ह्रदय-धड़कन मे
होगा कोई अन्य एक वक्त पश्चात

तुम कुछ ही वक्त के लिए हो उसकी जिन्दगी मे
तुम कुछ ही वक्त के लिए हो उसकी जिन्दगी
तुम इस सत्य से अभिन्नन थे
किन्तु यथार्थ यही है
और आज देखो ना घटित भी हो गया

किन्तु तुम प्रलाप मत करना
क्रुदन मत करना+क्योंकि
तुमने सह चुका है यह पीड़ा
इस क्षणिक प्रेम के दिखावे के पूर्व ही

तुम्हे इस बात का स्मरण रहना चाहिए
यदि तुम्हारे भाग्य मे प्रेम वास्तव मे ही होता
वह पहला अंकुरित बीज जो तुम्हारे ह्रदय मे
किशोरावस्था मे उपजा था
युवावस्था मे उसका नन्हाँ पौधा क्यों समय के पहिये से नष्ट होता

जो आये तुम्हारे समक्ष
जो आये तुम्हारे जिन्दगी में
जिसे जरूरत हो स्नेह की
जिसे जरूरत हो कुछ पल साथ की
तुम उसे अपना प्रेम-समर्पण दो
बिना इस ध्येय के
कि तुम्हें तुम्हारे कर्मों का फल मिलेगा

तुम तो रिक्त हो चुके थे बहुत पहले ही
जब बिछड़े थे तुम अपने अलहड़ साथी से
अब तो तुम भर रहे

लोगों की रिक्तियों को
तुम कुछ खो नहीं रहे
तुम तो दे रहे लोगों को

तुमने अपने हिस्से का प्रेम जी लिया है
पूर्व ही अपने पहले बिछड़े साथी के संग ही
अब तो तुम जीना सीखा रहे
किसी के बिछड़े साथी को

तुम सम्पूर्ण हो
तुम्हें कोई आवश्यकता नहीं
किसी के प्रेम-दया की
यह स्मरण रखना तुम…!!!!

क्योंकि, क्योंकि तुमनें प्रेम किया है……. !!!!

….

यदि तुम
उससे वास्तव में प्रेम करते हो
उसे स्वंत्रत रहने दो
अपने शक के बंधन में मत जकड़ो उसे

मनन मत करो अपने प्रेम पर
अपने प्रेम को वास्तविक-कृत्रिम
तुला पर मत तौलों

यदि वह लौट कर ना आये
प्रश्न चिन्ह मत लगाओ अपने समर्पण पर
ना ही चिन्ह करो उसके क्षणिक प्रेम-समर्पण पर

क्योंकि,,,,
क्योंकि तुम्हें ज्ञात होना चाहिए कि
तुम प्रेम कर रहे

प्रेम में
एक प्रेमी दुसरे प्रेमी को
स्वतंत्र कराता है समाज के बंधन से
तुम पुनः कैसे बांध सकते हो उसे अपने बंधन से

तुम्हें प्रेम प्रदर्शन से पूर्व
इस बात के लिए
स्वयं को सक्षम कर लेना चाहिए
यदि तुम्हारा साथी

तुम्हारी हथेली छोड़
किसी और की हथेली पर अपना हाथ रखता है
तब भी तुम बैचेन-उग्र नहीं होगे
तुम जाने देना उसे
उसे उसकी जिन्दगी जीने देना

क्योंकि,,,,
क्योंकि वह तुम्हारी ज़िंदगी है
तुम मौन ही रहना

क्योंकि,,,
तुमने प्रेम किया है उससे
प्रेम आजादी देती है बंधन नहीं
स्मरण रखना….!!!!

……मेरा फितूर

…….


मैंने तुम्हें जब जब दिल से पुकारा है
तुम्हें आवाज दिया है
मेरी आवाज मेरी पुकार तुम तक
कभी नहीं पहुचीं
मेरे दिल के तार शायद
तुम्हारे दिल के तार से कभी जुड़े ही नहीं
पहले खुद को फुसला लेती थी
यह कह कर की छत की मुड़ेरे पर बैठ
मैं चाँद से सारी बातें जो कहतीं हूँ
वो तुम तक पहुँच जाती होगी
तब जब तुम भी चाँद के साथ बैठ
गपशप करते होगे
पर अब मेरा वहम-मेरा फितूर राख हो गया
क्योंकि,,,,,
क्योंकि चाँद अब अपनी चाँदनी संग
कोहरे के पीछे जा छुपा है
अब तुम्हें कौन कहता होगा
मेरी पागलपन की हरकतें
अब आईना साफ हो गया है
हमारे बीच कोई तरंग नहीं
जो संदेशा पहुचा सके हमारा….!!!!!

#ziddynidhi

….यदि कोई रात नसीब हुई…

……

यदि कोई रात हमारी नसीब में आई तो मुझे इतना तो यकीन है की हम रात भर जग बातें ही करेगें,, परन्तु हम सबकी बात करेंगे पर हम दोनों की बात नहीं करेंगे हम बस उतना ही एक दुसरे की बात करेंगे जितना की हम खुद से ही बतायेंगे, हो भी तो यह भी सकता है कि बात करते करते मैं तुम्हारे बिलकुल समीप आ सो जाऊँ होने को तो यह भी हो सकता है कि तुम मुझे सुनते सुनते मेरी गोद पर आराम करो पर इतना तो तय है की हमारे मन में कहीं भी परिणय नहीं होगा,हम जो भी कहेंगे या सुनेगें हम सिर्फ यही महसूस करेंगे की हमारी आत्मा ही हमारे सामने निकल कर बैठी हो बुदबुदा रही है,हम अपनी पिछली बातें तो नहीं करेंगे पर हाँ हम पिछली बहुत सी बाते करेंगे,, हम जो भी पल बितायेगें उस रात हम अगली सुबह भूल जायेगें ठीक वैसे ही जैसे रात को हम अपने द्वारा खुद से कही हुई बातों को भूल जाते हैं क्योंकि,,,,,क्योंकि हमारे बीच कोई परिणय नहीं है, एक दूसरे से बात करने का मतलब ही यही है कि हम अपने आप ही बात कर रहें हैं, मुझे इतना तो यकीन है की कुछ ऐसा ही होगा……!!!!!

#ziddynidhi

…..पहला इश्क़….

……

हाँ यकीनन इश्क़ एक बार नहीं होता होगा
बार_बार भी हो सकता है किसी को
बचपन की नादानियां कह बात टाली जा सकती है, गलत शख्स से हुआ यह भी कहा जा सकता है, गलत वक्त हुआ ये भी मान सकते हैं
वो इश्क़ नहीं महज आकर्षण है कह कर भूलाने की कोशिश भी किया जा सकता है…… वो केवल मेरी एक अच्छी दोस्त थी कह कर खुद को समझाया भी जा सकता है….पर पहली दफा इश्क़ में जो महसूस होता है ना वो बाद में जब आपके सच्चा वाला इश्क़ होता है ना तब भी वह महसूस नहीं होता,वो उतावलापन,वो एक झलक देखने की ललक वो एक बात करने के बहाने ढूंढना,वो उसकी ओर चुपके से देखना…गलती से उसका नाम आपके होठों से निकलना हर बात में उसकी जिक्र करना…ये सब कुछ होता है पर उस एहसास के साथ नहीं जो पहले इश्क़ पर हुआ था,,,क्योंकि वो पहला एहसास होता है आपके दिल का जो उठते हैं आपके दिल में…हाँ बाद में उसे आप बचकानी हरकत समझ, आकर्षण समझ, गलती समझ भूलना चाहोगे पर जैसे जब आप कोई पौधा अपने आंगन में रोपतें हैं तो जब वो अपनी पहली कली को जन्म देता है जो खुशी जो एहसास उस पहली कली के दिखने में होता है वो एहसास वो खुशी उसके बाद के निकलने वाली कली से नहीं होता है….जबकि बाद में वो पौधा और घनी कली को जन्म देती है फिर भी…उसी तरह ये पहला इश्क़ भी होता है……!!!

#ziddynidhi

….. घुटन…

……

कभी कभी घुटन सी होती है हमारी सांसों में जबकि कोई फंदा नहीं होता हमारी गर्दन पर और ना ही कोई धुआं होता हमारे ईर्दगिर्द फिर भी घुटन होता है, ये घुटन होतें हैं अदृश्य जो बने होते हैं रिश्तो के जालों से, रिश्ता कोई भी हो जायज़_नाजायज जब ये अदृश्य घुटन खुदमें महसूस होने लगे तब उन रिश्तो को त्याग देना चाहिए ठीक उसी तरह जैसे किसी वृक्ष पर लगे फल को वृक्ष को जब बोझ लगने लगता है वह बिना किसी मोह के उन्हें स्वयं से अलग कर देता है वह वृक्ष भूल जाता है कि कैसे उसने उस फल को छोटे से पाला था उसने उसे अपने सामने बढ़ते हुए देखा था पर फिर भी वह उसे त्याग देता है उस फल की खुशी और खुद को बोझ मुक्त के लिए……सामने वाले को आप कितना भी कुछ ना दे दें पर यदि वह तृप्त नहीं हुआ तो आपका देना या ना देना एक सा ही है,बात सबकुछ देने की नहीं है बात सिर्फ़ आत्मतृप्त की है एक वैरागी एक साधू के पास कुछ भी नहीं होता फिर भी उसे किसी बात का मलाल नहीं रहता क्योंकि उसकी आत्मा तृप्त होती है उसके पास जो भी कुछ होता है वह उसमे ही तृप्त रहता है, रिश्ते भी ऐसे ही होते हैं आप सबकुछ देकर भी खुश नहीं हो और वह आपसे सबकुछ लेकर भी तृप्त नहीं,आप हर रोज हर पल खो रहे अपनी आत्मा की संतुष्टि को, सामने वाले को आप जबतक देते रहेगें
जब तक आपके पास है जब आप रिक्त हो जायेंगे धन-मन-प्रेम-समर्पन से तब आपको सामने वाला छोड़ हमेशा के लिए चला जाएगा और आप रह जायेगे रिक्त…..और वो घुटन जो आपको अपने रिश्ते में हर पल महसूस हो रहा था वही घुटन आपको एक वक्त के बाद आपके प्राण हर लेगी,,,जब भी आपको किसी भी रिश्ते में घुटन हो उन्हें त्याग दे…… केवल आत्मतृप्ती के लिए…… क्योंकि इस सृष्टि में आत्मतृप्ती का होना आवश्यक है किसी और की तृप्ति के लिए…!!!!!!

#ziddynidhi

पॉकेट एफ. एम. पर मेरी कहानी…..

मेरे द्वारा लिखी हुई कहानी को आप पॉकेट एफ. एम. पर सुन सकते हैं, इसके लिए आपको एक ऐप डाउनलोड करना होगा केवल, यदि आप कहानी सुनना पसंद करते हैं तो आप इसे जरूर डाऊनलोड करे क्योंकि इसमें बहुत सी कहानी है। मेरे द्वारा लिखी कहानी का नाम है “तुम बिन”,

लिंक ये है

https://pocketfm.app.link/OFaB9nYXC8

#ziddynidhi

न्यू साइट

दोस्तों यह मेरी नई साइट है, जो 2017 की साइट थी उसमें कुछ तकनीकी प्रोब्लेम हो गई है इस वजह से यह नई साइट मैंने बनाया है, उम्मीद है आप सभी फिर से मुझे प्यार देगें

मेरी पुरानी साइट का लिंक

https://ziddynidhi.wordpress.com

#ziddynidhi

WordPress.com.

Up ↑

Create your website with WordPress.com
Get started